Panchkula 2 Sep.
जैसा के पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने पिछले शुक्रवार को डेरा सच्चा सौदा प्रमुख संत गुरमीत राम रहीम सिंह जी इंसां से जुड़े मामले में विशेष सीबीआई न्यायाधीश, पंचकूला द्वारा प्रस्तुत टिप्पणियों के निरीक्षण की अनुमति दी, लेकिन इसकी एक प्रति पक्षकारों को सौंपने की अनुमति नहीं दी। उच्च न्यायालय ने अदालत परिसर के सीसीटीवी फुटेज, जो टिप्पणियों का हिस्सा है, को सीलबंद लिफाफे में रखने का निर्देश देते हुए रणजीत सिंह हत्याकांड में सीबीआई अदालत द्वारा अंतिम फैसला सुनाए जाने पर लगाई गई रोक को तब तक के लिए बढ़ा दिया गया था और 2 सितंबर सुनवाई की अगली तारीख दी थी| इसकी वजह थी रंजीत सिंह के बेटे जगसीर सिंह द्वारा यह कहने के बाद कि लोक अभियोजक के माध्यम से मामले में हेरफेर किया गया था, 24 अगस्त को, उच्च न्यायालय ने सीबीआई कोर्ट द्वारा दिए जाने की उम्मीद से दो दिन पहले फैसले की घोषणा पर रोक लगा दी थी। आज समूह श्रद्धालुओं द्वारा इस दिन को सत्य रक्षा दिन मानते हुए लगातार सिमरन करने का आदेश जारी हुआ है,  माननीय High Court ने रणजीत सिंह हत्याकांड केस दूसरे बैंच को ट्रांसफर किया। 



अब इस केस में फैसला दूसरा जज सुनाएगा। अगली तारीख अभी तय नहीं हुई है।देखना यह है के इस बार सत्य की रक्षा होती है या फिर से किसी साजिश के तहत इस फैंसले को समूह डेरे प्रेमिओं के मातम में तब्दील किया जाता है.

0 Comments